मखौल नहि बनि जाइथ राजनीतिक रणनीतिकार ‘प्रशांत किशोर’

    0
    278

    दिल्ली-मिथिला मिररः पहिने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदीक चहेता आ बाद मे नीतीश कुमार राजनीतिक रथ केर सारथी आब 2017 मे होइवला विधानसभाा चुनाव मे उत्तर प्रदेश मे कांग्रेस कें राजनीतिक नाव पर करूआरी लय बैसवाक लेल तैयार छथि। सूत्र सं भेट रहल जानकारीक मानी त प्रशांत किशोर आगामी यूपी विधानसभा चुनावमे सीधे कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधीकें रिपोर्ट करताह। प्रशांत किशोर एकटा एहन राजनीतिक रणनीतिकार छथि जे चुनावक समय विपक्षी पार्टीक द्वारा जे कोनो नारा आ कि स्लोगन अथवा कोनो तरहक चाइल कें आधार बना ओहि अस्त्र सं अपन प्रतिद्वंदी कें मारवाक क्षमता पैछला किछु चुनाव सं मनवावैत आबि रहला अछि।
    गुजरात मे मुख्यमंत्री मोदी आ बाद मे 2014मे संपन्न भेल आम चुनाव मे नरेन्द्र मोदीक लेल राजनीतिक रणनीति बना हुनका प्रधानमंत्रीक कुर्सी तक पहुंचेवामे अहम योगदान देने छलाह। कथित रूप सं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह सं प्रशांतक नीक संबंध नहि हेवाक कारणें आ प्रशांतक प्रधानमंत्री मोदी सं नीक संबंधक बीच आयल त्रिकोण मोड़क कारणें प्रशांत किशोर बिहार विधानसभा चुनावमे नीतीश कुमारक संग गेलाह आ ओहिठामक राजनीतिक परिदृश्य कें बदलि देलनि। बिहार चुनावक बाद प्रशांत किशोरक चर्चा बहुत बेसी होमय लागल आ किछु व्यक्ति आ राजनीतिक विश्लेषक त एतय तक कहय लगलाह जे प्रशांत किशोर चुनाव जितेवाक मशीन छथि।
    अहि बात कें ध्यान मे राखैत कांग्रेस पार्टी प्रशांत किशोर कें यूपी चुनावमे अपन डूबैत नाव कें पंचर सटवाक लेल बजेवाक लेल योजना बना चुकल अछि। हालांकि किछु दिन पहिने चुनाव सं पूर्व आ चुनाव बादमे एहने किछु बात चुनाव सर्वे करय बला एजेंसी ‘टुडेज चाणक्य’ कें बारे मे सेहो लगाओल जाइत छल मुदा बिहार चुनावमे जाहि तरहक परिणाम टुडेज चाणक्यक आयल ओहिकें बाद बहुत राजनीतिक नेता ओ विश्लेषक सोचवाक लेल विवश भय गेल छलाह। भारत एकटा एहन देश अहि जाहिठाम कोनो प्रयोग कें बेसी दिन तक नहि आम जनता पर लादल जा सकैत अछि। बिहार चुनाव तक प्रशांत किशोर बहुत लोकक ध्यानाकर्षणक केंद्र नहि छलाह मुदा बिहार चुनावक बाद जाहि तरहें आम लोकमे प्रशांतक रणनीतिक बनेवाक बात कें पता चलल ओहि कें बाद खास कय भाजपा सेहो ओहिकें काट तकवाक पूर्ण कोशिश करत त दोसर दिस आम लोक आब सेहो अहि बात कें समझय लागल अछि कि कोना प्रशांत विपक्षी दलक बात कें आधार बना ओकरा मात दैत छैथ।
    आब इ प्रशांत लेल सेहो एकटा चुनौति हेतनि जे ओ अपन शाख कें बचेवामे सफल होइत छैथ आ कि यूपी सन पैघ राज्यमे ओहो बिहार चुनावमे टुडेज चाणक्यक सर्वे जेना काठक हांड़ी बनता जेकरा बेर-बेर चुल्हा पर नहि चढ़ओल जा सकैत अछि। अहि बातक प्रमाण त यूपी चुनावक बादे पता चलत।