निषाद रैली पर लाठीचार्ज कें बाद राजनीति तेज

    0
    466

    पटना,मिथिला मिरर-अपर्णा झाः शुक्रदिन पटना मे निषाद समुदाय द्वारा कैल गेल राजभवन मार्च के बाद जाहि तरहक बर्बरता बिहार पुलिसक द्वारा देखाओल गेल ओहि कें चहुदिश निंदा हैव स्वभाविक छलैक। बिहार पुलिस द्वारा कैल गेल लाठी लार्ज मे कम सं कम 5 दर्जन सं बेसी व्यक्ति घायल भय गेलाह। निषाद समुदायक मांग छलैक जे सरकार हुनका लोकनि कें अनूसूचित जाति मे सम्मिलित करैय। 
    मैमला कें तूल पकड़ैत देखि बिहार सरकार आनन-फानन मे दोषी पुलिसकर्मीक विरूद्ध जांच आदेश द देल गेल। मुदा ओहि कें बाद अहि मुद्दाक राजनीति करण करवा मे बीजेपी सहित अन्य दल कोनो कसैर बांकि नहि रखलक। बिहार बीजेपी कें अध्यक्ष मंगल पांडे्य अओर विधान परिषद मे नेता प्रतिपक्ष सुशील कुमार मोदी अस्पताल मे जा घायल प्रदर्शनकारी सं भेंट कय हुनकर हालचाल पुछलाह। 
    ओमहर जीडेयूक बागी आ निलंबित विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू सेहो हाॅस्पिटल जा घायलकें हाल चाल लेलाह। विधानसभा चुनाव सं पूर्व अहि तरहक बर्बर लाठी चार्ज नीतीश ओ लालू प्रसाद यादवक लेल कतेक मुसिबत लय आयत अहि बातक बोध सत्ताधारी पार्टीक नेता लोकनि के नीक जेना हेतनी मुदा एतेक कम समय मे ओ कोनो तरहक मदद सेहो निषाद समाजक लेल नहि कय सकैत छथि कारण आब 24 घंटाक बाद बिहार मे संभवतः चुनाव अधिसूचनाक ऐलान कय देल जायत। 
    आब इ देखब दिलचस्प हैत कि निषाद समुदाय पर कैल गेल इ लाठी चार्ज वोट बैंक मे बदलत आ कि जनाक्रोश बनि लालू-नीतीशक लेल एकटा ग्रहक रूप मे सामने आयत।