सुहागिनक महत्वपूर्ण पावनिमे सं एक ‘बैरसाइत’ सं संबंधित शिव कुमार झा केर इ कविता

    1
    14

    सौभाग्यक वियनिसंग वरत’र सुहागिनी !
    अखण्डित सेनुर सेंथु शोभि रहलि भामिनी
    शीतल पवन सूंघि वरपात सिहकै
    जड़ितर केसर कुमकुम धूपगुगुल महकै
    चहुँदिशि फुलायलि छथि कामिनी
    हे शिव चहुँदिशि फुलायलि छथि कामिनी !
    जेठक अमावस नव आशाक संगम
    बेटी सावित्रीके खोईंछ रहनि गमगम
    सभघर सजनि आल आसिनी
    हे शिव सभघर सजनि आल आसिनी !
    यमक फेर मिथिला संग क’तहु ने आबै
    कोनो ने पुरुख सोन सीता बनाबै
    सदति कंत संगमे सुहासिनी
    हे शिव सदति कंत संगमे सुहासिनी !
    एहने आशीष “शिव” हीया फुरायल
    रहनि बहिनबेटी के’ आत्मा जुरायल
    दूर रहय कालकाँट दामिनी
    हे शिव दूर रहय कालकाँट दामिनी !

    1 COMMENT

    1. मैथिल हम मिथिला केर बासी
      हमर मैथिली बोल
      मिथिला मिरर के संग पावि
      सरिपहुँ हम अनमोल

    LEAVE A REPLY

    Please enter your comment!
    Please enter your name here